Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

हरदोई,अनुसूचित जाति, जनजाति विषयक संगोष्ठी आयोजित हुई.

post

हरदोई,अनुसूचित जाति, जनजाति विषयक संगोष्ठी आयोजित हुई


हरदोई।जिला विधिक सेवा प्राधिकरण हरदोई के तत्वाधान में एवं सचिव/तहसीलदार नरेन्द्र कुमार यादव के निर्देश पर अनूसूचित जाति एवं जनजाति के अधिकार विषय पर विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर का आयोजन ब्लॉक सभागार शाहाबाद में किया गया । कानूनी सहयता क्लीनिक से पीएलवी मोहम्मद शाजेब सिद्दीकी ने अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति अधिनियम 1989 के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यह अधिनियम अनुसूचित जातियों और जनजातियों के लोगों पर अत्याचार और अपराध रोकने, ऐसे अपराधों से पीड़ित व्यक्तियों के पुनर्वास के लिए बनाया गया है। अधिनियम के अंतर्गत अनुसूचित जाति-जनजाति वर्ग के लोगों का उत्पीड़न करने वाले व्यक्ति को कम से कम छह महीने और अधिक से अधिक पांच साल की सजा औैर जुर्माने का प्राविधान है।



परा विधिक स्वयं सेवक योगेंद्र गुप्ता ने कहा कि नशे की प्रवृत्ति के कारण बाल विवाह और बच्चियों के शारीरिक शोषण की घटनाएं बढ़ रही हैं। ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए जांच एजेंसी को जागरूकता संगोष्ठी आयोजित कर लोगों को नशे से दूर रहने का आह्वान करना चाहिए। इसके अलावा मानसिक स्वास्थ्य, वन संरक्षण अधिनियम, शिक्षा का अधिकार, निशुल्क और अनिवार्य शिक्षा आदि योजनाओं के बारे में भी बताया गया। कौशल श्रीवास्तव ने कि यदि कोई व्यक्ति अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति के किसी सदस्य के खिलाफ झूठा गवाही देता है या गढ़ता हैं जिसका आशय किसी ऐसे अपराध में फँसाना हैं जिसकी सजा मृत्युदंड या आजीवन कारावास जुर्मानें सहित है। और इस झूठें गढ़ें हुयें गवाही के कारण अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति के सदस्य को फाँसी की सजा दी जाती हैं|तो ऐसी झूठी गवाही देने वालें मृत्युदंड के भागी होंगें।


इस मौके पर लीगल एड क्लीनिक पी एल वी सर्वेश कुमार पैरालीगल वालियंटर्स सुतीक्षण राठौर, संतोष कुमार पाल, शिवाकांत श्रीवास्तव आदि लोग उपस्थित रहे ।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner