Breaking News

सीतापुर उत्तर प्रदेश

अटरिया सीतापुर बिना लाइसेंस के खोवा बेचा तो हो सकती है जेल.

post

अटरिया सीतापुर बिना लाइसेंस के खोवा बेचा तो हो सकती है जेल


           अटरिया, बनौगा, छावन,खोया मंडी संचालक

लगेगा पांच लाख का जुर्माना और छह माह की होगी जेल

- 20 अगस्त तक खाद्य प्रतिष्ठानों पर लगाना होगा फूड सेफ्टी डिस्प्ले बोर्ड-

- लगेगा पांच लाख का जुर्माना और छह माह की होगी जेल

- 20 अगस्त तक खाद्य प्रतिष्ठानों पर लगाना होगा फूड सेफ्टी डिस्प्ले बोर्ड

- अटरिया, बनौगा रोड छावन ,सहित अन्य खोया मंडी में होसक्ति है जांच

- बिना लाइसेंस वालों पर हो सकती है कार्रवाई

नरेश गुप्ता

अटरिया सीतापुर : बिना लाइसेंस और पंजीकरण कराए खोवा या मिठाई का कारोबार करने वालों पर अब कड़ी कार्रवाई हो सकती है। लखनऊ नरही में पिन्नी खाकर बीमार हुए लोगों की घटना के बाद एफएसडीए ने गाइडलाइंस जारी कर दी हैं। अगले हफ्ते से सीतापुर जनपद में भी अटरिया समेत सभी छोटी बड़ी खोवा मंडियों में अभियान चलाकर जांच की जा सक्ति है। जिस कारोबारी के पास रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस नहीं मिला, उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। वहीं अगस्त के अंतिम सप्ताह तक हर करोबारी को डिस्प्ले बोर्ड लगाना जरूरी होगा।

अगले हफ्ते से हो सकती है चेकिंग

अगले हफ्ते से चलने वाले अभियान के दौरान पकड़े जाने पर सबसे पहले नोटिस जारी की जाएगी। इसमें कारोबारी को रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस लेने की चेतावनी दी जाएगी। इसके बाद 15 दिन का समय और दिया जाएगा। उसके बाद भी रजिस्ट्रेशन न कराने वाले खोवा कारोबारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। इसके तहत छह महीने की जेल और पांच लाख रुपये तक का जुर्माना भी लगाया जा सकता है।

डिस्प्ले बोर्ड लगाना जरूरी

एफएसडीए ने खानपान का सामान बेचने वाली दुकानों पर डिस्पले बोर्ड लगाने के लिए भी डेड लाइन निर्धारित कर दी है। इसके लिए अगस्त के अंतिम सप्ताह का समय दिया गया है। उसके बाद जिस भी प्रतिष्ठान में डिस्प्ले बोर्ड लगा नहीं मिला तो उसका चालान काटा जाएगा। इसके बाद नोटिस जारी कर जुर्माना लगाया जाएगा। जुर्माने के अलावा तीन माह की जेल भी हो सकती है। होटल, रेस्त्रां, रिटेलर, दूध डेयरी, मीट विक्रेता की दुकान पर फूड सेफ्टी डिस्प्ले बोर्ड लगाना अनिवार्य कर दिया गया है। इसका पालन न संस्थान का लाइसेंस सस्पेंड कर दिया जाएगा।

दुकानों पर अलग-अलग बोर्ड

खाद्य एवं औषधि नियंत्रण विभाग ने दुकानों की छह कैटिगरी बनाकर इन पर अलग-अलग बोर्ड लगाने की योजना बनाई है। मांस दुकान, बड़े रेस्टोरेंट, रिटेल दुकानें, दूध व उससे बनी सामग्री बेचने वाली दुकानें, फल और सब्जी की दुकानें और छोटे रेस्त्रां के लिए अलग-अलग बोर्ड रहेंगे। इन दुकानों पर बकायदा नियम लिखे रहेंगे।

ये नियम लिखे रहेंगे बोर्ड पर

- सफाई करने के लिए साफ कपड़े और डस्टर जरूरी है।

- फ्रिज का टेंप्रेचर 5 डिग्री सेल्सियस से नीचे रखा जाएगा। फ्रीजर का टेंपरेचर 0 डिग्री सेल्सियस से नीचे रखना पड़ेगा।

- कैप और ग्लब्स पहनाकर कर्मचारियों से काम करवाएंगे।

- हाथों में जली हुई जगहों या कटे पर वाटर प्रूफ बेंडेड लगाने पड़ेंगे।

- वेज और नॉनवेज खाने का सामान अलग-अलग रखा जाएगा।

- कच्ची और पकी हुई खाने की चीजें अलग रखनी होगी।

- हर दो घंटे में कर्मचारियों को हाथ धोने पड़ेंगे।

- खाने पीने का सामान छूने के पहले भी हाथ धोने होंगे।

कोट्स-

सभी दुकानों में फूड सेफ्टी डिस्प्ले बोर्ड लगवाने के आदेश आए है। 10 से 12 रूल्स वाले बोर्ड जिले की हर दुकानों में लगाए जाएंगे। दुकानदारों को ये बोर्ड लगाना अनिवार्य है, यदि बोर्ड के नियमों का पालन नहीं किया गया तो दुकानदारों का लाइसेंस हो सकता है निरस्त |

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner