Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

इटावा, विश्व रक्तदान दिवस पर होगा गोष्ठी का आयोजन.

post

इटावा, विश्व रक्तदान दिवस पर होगा गोष्ठी का आयोजन

रक्तदान कर दूसरों का जीवन बचाएं और अपनी अच्छी सेहत बनाएं -मुख्य चिकित्सा अधीक्षक

इटावा, 13 जून 2022। विश्व रक्तदान दिवस है। जिला अस्पताल मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ एमएम आर्य ने जनपदवासियों से अपील की है कि आइये इस दिवस को एक उत्सव के रूप में मनाएं। इस दिवस पर कम से कम दो लोगों को रक्तदान संबंधी भ्रांतियों से दूर करें और उन्हें रक्तदान के प्रति जागरूक करें।  उन्होंने बताया कि स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में 5 लीटर खून होता है यदि वह 300 एमएल रक्तदान करता है तो उससे ज्यादा ही खून हमारे शरीर में सुरक्षित पड़ा होता है। रक्तदान से शरीर पर किसी भी तरह का प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ता है और न ही कमजोरी आती है बल्कि रक्तदान करने से आप अपनी सेहत को बेहतर बना सकते हैं।

ब्लड बैंक प्रभारी डॉ सुशील कुमार ने बताया कि जिला अस्पताल में विश्व रक्तदान दिवस के अवसर पर एक गोष्ठी का आयोजन किया जाएगा साथ ही रक्तदान में सहयोग करने वाली संस्थाओं के सहयोग से रक्तदान शिविर का भी आयोजन होगा। डॉ सुशील ने बताया कि रक्तदान महादान है इससे आप किसी के जीवन को बचा सकते हैं इसलिए सभी को रक्तदान जरूर करना चाहिए।  इसीलिए मैं सभी से अपील करूंगा जो भी व्यक्ति ऐच्छिक रूप से रक्तदान करना चाहता है वह कल जिला अस्पताल में आकर रक्तदान कर सकता है। उन्होंने कहा कि रक्तदान करने से शरीर को होते हैं कई लाभ-

1- हर 3 महीने में एक बार ब्लड डोनेट करना चाहिए। इससे में आयरन की मात्रा ठीक बनी रहती है और दिल की बीमारियां भी दूर रहती हैं।

2- ब्लड डोनेशन से आप लंबे वक्त तक जवां बने रहते हैं और स्ट्रोक व हार्ट अटैक से भी बचाव होता है।

3- डॉक्टरों के अनुसार, ब्लड डोनेट करने से शरीर में आयरन की मात्रा सही बनी रहती है। आयरन की अधिकता से लीवर टिशू का ऑक्सीडेशन होता है, जिससे वो डैमेज हो सकता है और आगे चलकर कैंसर बन सकता है। इसलिए नियमित रूप से ब्लड डोनेट करने से लीवर डैमेज व कैंसर का जोखिम भी कम होता है।

4- ब्लड डोनेशन से वजन घटाने में भी मदद मिलती है। एक बार ब्लड डोनेट करके 650-700 कैलरी घटा सकते हैं। कैलरी घटने से वजन भी कम होता है। लेकिन इसका मतलब यह कतई नहीं है कि आप हर महीने ही ब्लड डोनेट करें। याद रखें कि 3 महीने में केवल एक बार ही रक्तदान करना चाहिए।

5- ब्लड डोनेशन से मानसिक संतुष्टि भी मिलती है क्योंकि आपके द्वारा डोनेट किए गए ब्लड से कम से कम 2-3 लोगों को नया जीवन दान मिलता है जिसे खुशी और मानसिक संतुष्टि का अहसास होता है।

डॉ सुशील ने बताया कि कोई भी 60 वर्ष से कम का स्वस्थ व्यक्ति रक्तदान कर सकता है। उन्होंने बताया कि हमारे यहां 300 यूनिट ब्लड बैंक में ब्लड रखने की क्षमता है। वर्तमान समय में 12 यूनिट ब्लड ही ब्लड बैंक में उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि ब्लड बैंक द्वारा यहां थैलेसीमिया, हीमोफीलिया, लावारिस मरीजों, दिव्यांगों, जेल कैदियों, गर्भवती महिलाओं को बिना एक्सचेंज रक्त उपलब्ध कराया जाता है। इसलिए आशा करता हूं विश्व रक्तदान दिवस पर ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोग आकर अवश्य रक्तदान करेंगे।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner