Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

सीतापुर,कसमंडा सीएचसी को पांचवीं व मिश्रिख को दूसरी बार मिला काया कल्प अवार्ड.

post

सीतापुर,कसमंडा सीएचसी को पांचवीं व मिश्रिख को दूसरी बार मिला काया कल्प अवार्ड

- दोनों को मिलेगा एक-एक लाख रुपए का का पुरस्कार


सीतापुर। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी)कसमंडा लगातार पांचवीं बार कायाकल्प अवार्ड जीतकर इतिहास रचा है। इसके अलावा मिश्रिख सीएचसी को भी इस साल यह अवार्ड हासिल हुआ है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. मधु गैरोला ने बताया कि कसमंडा और सीएचसी को इस साल क्वालिटी एश्योरेंस के तहत सांत्वना पुरस्कार मिला है। सीएमओ ने बताया कि प्रदेश में कई सालों से क्वालिटी एश्योरेन्स के अंतर्गत सीएचसी और पीएचसी को कायाकल्प पुरस्कार दिया जा रहा है। इन पुरस्कारों के लिए दोनों सीएचसी के समस्त चिकित्सा अधीक्षक समेत सभी स्वास्थ्य कर्मी बधाई के पात्र हैं। अन्य सीएचसी व पीएचसी के चिकित्सा अधीक्षकों को भी इनसे प्रेरणा लेकर भविष्य में इस तरह के पुरस्कार प्राप्त करने के लिए प्रयास करने चाहिए। 

कसमंडा सीएचसी के अधीक्षक डॉ. अरविंद बाजपेयी ने बताया कि कायाकल्प पुरस्कारों की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 15 मई 2015 को की थी। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन ने इस साल जो सूची जारी की है। उसमें कसमंडा और मिश्रिख सीएचसी के नाम सांत्वना पुरस्कार के रूप में शामिल हुए हैं। इन पुरस्कारों के रूप में दोनों सीएचसी को एक-एक लाख रुपये की धनराधि प्रदान की जाएगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश में कुल 265 सीएचसी ऐसे हैं, जिन्होंने 70 फीसद से अधिक अंक हासिल कर यह पुरस्कार प्राप्त किया है। संबंधित जिलों को मिशन निदेशक ने पत्र भेजकर पुरस्कार की सूचना दी है। पत्र में प्राप्त दिशा-निर्देशों के अनुसार पुरस्कार राशि का 75 फीसद हिस्सा चिकित्सा इकाई के गैप क्लोजर, सुदृढ़ीकरण, रख-रखाव व स्वच्छता व्यवस्था आदि पर खर्च किया जाना है, जबकि 25 फीसद हिस्सा संबंधित इकाई के अधिकारियों व कर्मचारियों के उत्साहवर्धन के लिए खर्च किया जाना है। 

ज़िला परामर्शदाता क्वालिटी एश्योरेंस डॉ. इरफान अहमद अब्बासी  ने बताया कि कसमंडा सीएचसी को 72.57 फीसद और मिश्रिख सीएचसी को 71 फीसद से अधिक अंक हासिल हुए हैं। उन्होंने बताया कि इस श्रेणी में पुरस्कार पाने के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर सात बिंदुओं रोगी संतुष्टि में वृद्धि करना, चिकित्सालय कर्मियों के कार्यशैली एवं दक्षता में सुधार करना, सफाई, बायोमेडिकल वेस्ट प्रबंधन, हाइजिन प्रमोशन, सेनिटाइजेशन, संक्रमण प्रबंधन आदि पर जांच टीम के द्वारा अंक दिए जाते हैं। इन्हीं अंकों के आधार पर पीएचसी की रैंकिंग तैयार होती है।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner