Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

शाहजहांपुर,विक्रमपुर का प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बीमार,कैसे हो लोगों का इलाज ?.

post

शाहजहांपुर,विक्रमपुर का प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बीमार,कैसे हो लोगों का इलाज ?


◆एक एएनएम के सहारे चल रहा स्वास्थ्य केंद्र


◆तराई व कटरी क्षेत्र के लाखों लोग स्वास्थ्य सेवाओं से वंचित

◆अस्पताल में जगह-जगह लगे गंदगी के ढेर 

◆शासन की मंशा पर विभाग के अधिकारी व कर्मचारी फेर रहे पानी

◆जर्जर स्टोर रूम में लावारिस हालात में मिले सीरप, दवाइयां व अन्य स्वास्थ्य सामग्री

◆ करोड़ों खर्च करके लगभग 13 वर्ष पूर्व हुआ था अस्पताल का निर्माण

दिनेश मिश्रा

कलान-शाहजहांपुर

एक तरफ जहां केंद्र की मोदी व उत्तर प्रदेश की योगी सरकार स्वास्थ्य शिक्षा पर करोड़ों रुपए पानी की तरह बहा रही है।तो वहीं दूसरी तरफ स्वास्थ्य विभाग के लापरवाह अधिकारी व कर्मचारी शासन की मंशा पर पानी फेरने में कोई कोर कसर बाकी नहीं छोड़ रहे हैं।

तहसील कलान क्षेत्र के ग्राम विक्रमपुर का प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खुद ही बीमार है।तो गंगा की तराई और कटरी के लाखों लोगों का कैसे इलाज हो?जगह-जगह गंदगी का अंबार है।जबकि विक्रमपुर का प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एक एएनएम के सहारे चल रहा है।स्वास्थ्य केंद्र पर किसी भी चिकित्सक व फार्मासिस्ट की तैनाती नहीं है। जिस कारण गंगा की तराई एवं कटरी क्षेत्र के दर्जनों गांवों के लाखों लोगों को समुचित स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है। स्वास्थ्य उपचार जैसी मूलभूत सुविधाओं से यहां के लोग आज भी वंचित हैं। अस्पताल की बाउंड्री जगह-जगह टूटी तथा अस्पताल परिसर के अधिकांश भवनों के दरवाजे या तो गायब हैं या टूटे पड़े हैं और तो और स्वास्थ्य अधिकारियों और कर्मचारियों की लापरवाही के कारण अस्पताल के एक जर्जर रूम में सीरप,दवाइयां,पट्टियां व अन्य स्वास्थ्य सामग्री लावारिस हालत मे पड़ी हैं। जिससे प्रतीत होता है कि स्वास्थ्य कर्मियों की लापरवाही के कारण दवाएं व अन्य स्वास्थ्य सामग्री का रखरखाव ढंग से नहीं किया गया या जिनका वितरण नहीं कराया गया। 

अस्पताल के भवन में घुसते ही दवा काउंटर,ओपीडी,टीकाकरण कक्ष,वेलनेस एवं परामर्श कक्ष, महिला वार्ड, सामान्य वार्ड,प्रसव कक्ष,ड्रेसिंग कक्ष,पैथोलॉजी,स्टाफ रूम समेत प्रत्येक कक्ष में भीषण गंदगी का साम्राज्य है। इस अस्पताल में डॉक्टर फार्मासिस्ट छोड़िए वार्डब्याय तक की तैनाती नहीं है। रविवार को अस्पताल में स्वास्थ्य मेले का आयोजन था जिसमें स्वास्थ्य कर्मियों को 10:00 बजे पहुंचना था।लेकिन स्वास्थ्य विभाग के लापरवाह कर्मचारी 11:00 बजे के बाद पहुंचे। उधर जब इस संबंध में शाहजहांपुर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी से बात करनी चाही तो उनका फोन रिसीव नहीं हुआ। वहीं जब इस मामले में जानकारी के लिए प्रभारी चिकित्साधिकारी कलान डॉक्टर दिनेश यादव से फोन पर बात की गई तो उन्होंने बताया कि विक्रमपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का भवन जर्जर है। मेरे पास निर्माण कार्यों हेतु धन नहीं आता।मेरे पास सिर्फ रंगाई पुताई का पैसा आता है। स्वास्थ्य कर्मचारियों के बारे में जानकारी करने पर श्री यादव ने बताया कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र विक्रमपुर मे स्वास्थ्य कर्मियों के अभाव में स्वास्थ्य सेवाएं बाधित हैं। जिसकी जानकारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी व जिला अधिकारी शाहजहांपुर को लिखित रूप से दी जा चुकी है।


*बॉक्स*

सरकारी धन से खरीदी गई सीमेंट की बोरी भी अस्पताल में हो रही खराब

विक्रमपुर-कलान 

तहसील कलान क्षेत्र के गांव विक्रमपुर के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के भवन में सरकारी धन से खरीदी गई लगभग दो दर्जन से अधिक सीमेंट बोरियां भी रखी हैं। जो कि खराब होने के कगार पर हैं। वहीं स्वास्थ्य विभाग कलान में तैनात एक कर्मचारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया विक्रमपुर अस्पताल में रखी सीमेंट की बोरियां अस्पताल की बाउंड्री की मरम्मत के लिए आईं थीं।प्रभारी चिकित्साधिकारी की लापरवाही के कारण मरम्मत नहीं कराई गई। स्वास्थ्य अधिकारियों व कर्मचारियों की लापरवाही का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि शासन से मिलने वाले धन से खरीदी गई सीमेंट की बोरियों का उपयोग भी नहीं किया गया।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner