Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

मेला कमेटी हज़रत गुलज़ार शाह के अध्यक्ष सय्यद नसीम अहमद ने अवैध कब्जा हटवाने व मेला की अनुमति की जिलाधिकारी से की मांग ।.

post

बिसवां सीतापुर बिसवां में स्थित बाबा हज़रत गुलजार शाह रहमतुल्लाह अलैह का सालाना उर्स व मेला प्रदेश में विख्यात है।यह मेला व उर्स हिंदू मुस्लिम एकता और भाईचारे का संदेश देता है।मेला प्रतिवर्ष दिसंबर से शुरू होकर 26 जनवरी तक चलता है।इस वर्ष दो दिसंबर से मेला व उर्स अपने तय समय से होना तय हुआ है।यह जानकारी मेला कमेटी हज़रत गुलज़ार शाह के अध्यक्ष सय्यद नसीम अहमद एडवोकेट ने दी।मेला कमेटी हज़रत गुलज़ार शाह के अध्यक्ष सय्यद नसीम अहमद एडवोकेट ने एक पत्र जिलाधिकारी सीतापुर को रजिस्टर्ड डाक के माध्यम से भेजा है उसमें कहा गया है की। दो वर्षों से कोरोना के कारण शासन द्वारा मेले की अनुमति नहीं दी गई है।जिसका फायदा उठाकर कुछ अराजक तत्व अपनी राजनीतिक पहुंच के चलते माननीय उच्च न्यायालय खंडपीठ लखनऊ के आदेश को धता बताकर जबरदस्ती चार दिसंबर 2019 से मेले व मेले की भूमि पर जबरन दुकानें रखवा कर व मेला पंडाल को मैरिज हॉल बनाकर अवैध वसूली कर रहे हैं।जबकि हज़रत गुलजार शाह मेला कमेटी ही लीगल व अथराइज कमेटी है।यह मेला कमेटी 1973 से डिप्टी रजिस्ट्रार चिट फंड एंड सोसाइटी के द्वारा रजिस्टर्ड है। जिसका रजिस्ट्रेशन नंबर 31434/73 है।और रिन्यूअल के आदेश भी हो चुके हैं। मेले की टोटल प्रॉपर्टी गुलज़ार शाह मेला  कमेटी द्वारा रजिस्टर्ड डीड के माध्यम से खरीदी गई है। मेले में वक्फ अथवा दान की कोई भी भूमि नहीं है। फर्जी तो पर प्रॉपर्टी को वक्फ दिखाते हुए मेला व उसकी भूमि पर जबरन कब्जा कर मेला पंडाल में मैरिज हाल व 50 दुकानों से 1000 से 1500 रुपए प्रतिमाह अवैध वसूली को रोके जाने तथा मजार व मेले की भूमि पर किए गए अवैध कब्जे को खाली कराकर वसूली गयी रकम का हिसाब दिलाए जाने एवं पर्यटन विभाग द्वारा बनाई गई श्रद्धालुओं के बैठने की लगभग 20 सीटों को तोड़वा कर गायब किए जाने की उच्च स्तरीय जांच की मांग की गयी है। प्रार्थना पत्र में यह भी मांग की गई है कि 

दौरान मुकदमा मेला की भूमि व मजार की आमदनी अपर जिलाधिकारी या उपजिलाधिकारी बिसवां की देखरेख में दिए जाने के आदेश की मांग की गयी है।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner