Breaking News

ब�रेकिंग न�यूज़

हरदोई, महानिदेशक स्कूल शिक्षा को ग्यारह सूत्रीय मांग पत्र .

post

हरदोई, महानिदेशक स्कूल शिक्षा को ग्यारह सूत्रीय मांग पत्र 


हरदोई।जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ शाहाबाद के द्वारा ,बी आर सी शाहाबाद में महानिदेशक, स्कूल शिक्षा, उत्तरप्रदेश के नाम सम्बोधित 11सूत्रीय मांग-पत्र का ज्ञापन ,खण्ड शिक्षा अधिकारी शाहाबाद के माध्यम से ब्लॉक स्तरीय शिष्टमंडल के द्वारा  ब्लॉक अध्यक्ष एवम जिला महामन्त्री सन्तोष अग्निहोत्री के नेतृत्व में दिया।

 शिक्षा निदेशक बेसिक द्वारा प्रदेश के बेसिक शिक्षकों को निर्देश दिया गया है कि परिषदीय विद्यालयों में अध्ययनरत छात्रों जिनको यूनिफार्म स्वेटर, स्कूल बैग एवं जूता मोजा दिया जाना है। खातों में धनराशि प्रेषण हेतु सम्पूर्ण डेटा एवं अभिभावकों का बैंक खाता एवं आधार फीड कराया जाए। साथ ही यह भी निर्देश दिया गया है कि यह सुनिश्चित किया जाए कि अभिभावकों का खाता आधार से लिंक है अथवा नहीं, यदि नहीं तो कराया जाए। महोदय, उक्त कार्य करने में शिक्षकों के आगे काफी समस्याएं आ रही हैं।

उक्त किसी कार्य हेतु प्रदेश के लगभग 20 प्रतिशत शिक्षक ऐसे हैं जिनको एंड्राएड फोन चलाना नहीं आता है।विभागीय किसी भी कार्य हेतु विभाग द्वारा कोई भी संसाधन जैसे एंड्राएड फोन या लैपटॉप, मोबाइल सिम, नेट की सुविधा अभी तक नहीं उपलब्ध कराई गई है।कोई भी सुविधा उपलब्ध न कराते हुए भी जबरदस्ती दण्डात्मक कार्यवाही का भय दिखाकर नियमों के विरूद्ध जाकर बेसिक शिक्षकों के बच्चों व परिवार के अधिकार वाले वेतन से गैर कानूनी ढंग से खर्च कराने के लिए बाध्य किया जा रहा है जो कि एक अन्याय है, जो किसी भी स्थिति में स्वीकार नहीं है।उक्त कार्य लिपिकीय दायित्व का है परन्तु शिक्षकों से कराया जा रहा है, जो उचित नहीं है।डेटा फीडिंग जैसे कार्य के लिए शिक्षकों को लगाया जाना अनिवार्य शिक्षा अधिनियम 2011 के नियम 7 का उल्लंघन है।बच्चों की जन्मतिथि एवं नाम विद्यालय के रिकार्ड में तथा उनके आधार कार्ड में भिन्न-भिन्न है। ऐसी दशा में प्रमाणीकरण कर पाना सम्भव ही नहीं है।अभिभावकों के नाम उनके आधार में कुछ और दर्ज है तथा नामांकित बच्चों के आधार कार्ड में भिन्न है। ऐसी दशा में आधार प्रमाणीकरण कैसे सम्भव है।अभिभावकों का आधार लिंक होना आवश्यक है। इस तथ्य की पुष्टि कैसे सम्भव होगी?

 प्रदेश भर के प्रत्येक ब्लाक संशोधन केन्द्रों को बड़ा बजट देकर सुदृढ़ीकरण कायाकल्प किया गया है और सभी सुविधाओं से आच्छादित किया है। प्रत्येक केन्द्र पर कई-कई कम्प्यूटर, लैपटॉप तथा तीन चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी जिन्हें कम्प्यूटर में दक्ष किया गया है। साथ ही दो कम्प्यूटर आपरेटर संविदा पर पूर्व से ही कार्य कर रहे हैं, उनसे यह कार्य कराया जाए।

क्योंकि अधिकांश शिक्षकों को कम्प्यूटर या एंड्राएड फोन चलाना नहीं आता है ऐसी दशा में व दण्डात्मक कार्यवाही के भय से कैफे जाते है, जहां पर कम से कम 5 रूपये प्रति बच्चा फीडिंग का मांगा जा रहा है। जो कि शिक्षक अपने वेतन से देने को मजबूर है, जो कि उचित नहीं है।

शिक्षक को मिलने वाले वेतन पर उसके परिवार व बच्चों का अधिकार है। उस अधिकार पर विभाग द्वारा जबरदस्ती सरकारी कार्य पर प्राप्त होने वाले वेतन से व्यय कराकर उसके परिवार के अधिकारों का हनन किया जा रहा है। जो कि न्याय संगत नहीं है।

महोदय, शिक्षक लिखित डेटा तैयार कर ब्लाक संसाधन केन्द्रों को उपलब्ध करा देंगे परन्तु फीडिंग कार्य ब्लाक संसाधन केन्द्रों पर नियुक्त उपरोक्त कर्मचारियों से कराया जाए। उक्त कार्य की जिम्मेदारी शिक्षकों पर दिए जाने से प्रदेश का बेसिक शिक्षा आन्दोलित एवं आक्रोशित है तथा किसी भी स्थिति में जानकारी के अभाव में फीडिंग कराने को तैयार नहीं है।

अतः उत्तर प्रदेश जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ उत्तर प्रदेश आपसे अनुरोध करता है कि उक्त कार्य ब्लाक संसाधन केन्द्रों के माध्यम से कराने हेतु विभागीय अधिकारियों को निर्देशित करने का कष्ट करें। साथ ही जब तक विभाग द्वारा उक्त सभी सरकारी कार्यों हेतु संसाधन उपलब्ध नहीं कराए जाते हैं तथा समुचित कम्प्यूटर संचालन का प्रशिक्षण नहीं कराया जाता है तब तक उक्त किसी कम्प्यूटरीकृत ऑनलाइन कार्य का प्रदेश का बेसिक शिक्षक बहिष्कार करता है तथा अग्रिम शांतिपूर्ण आन्दोलन की भी समयबद्ध घोषणा करेगा।

          ब्लॉक अध्यक्ष एवं जनपदीय महामन्त्री सन्तोष अग्निहोत्री ने अपने उदबोधन में कहा कि हम सभी शिक्षक एकजुटता का प्रदर्शन करते हुए " बेसिक शिक्षा नियमावली "से अतिरिक्त सौंपे गए "गैर शैक्षणिक कार्यों " का बहिष्कार करते हैं और सरकार के द्वारा बिना संसाधन उपलब्ध कराए जबरदस्ती बिभिन्न मोवाइल एप डाउनलोड कराने, कम्प्यूटर व लैपटॉप पर डेटा फीडिंग का कार्य कदापि नहीं करेंगें इसके लिए कार्यालयों में अन्य कर्मचारियों को रखा गया है।उन्होंने कहा कि प्रान्तीय नेतृत्व द्वारा दिनांक 27 सितम्बर 2021को बेसिक शिक्षा मन्त्री उत्तर प्रदेश ,महानिदेशक, स्कूल शिक्षा उत्तरप्रदेश एवं शिक्षा निदेशक ( बेसिक) को यही 11सूत्रीय मांग-पत्र दिया था, आज पूरे उत्तरप्रदेश में जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ के ब्लॉक अध्यक्ष के नेतृत्व में खण्ड शिक्षा अधिकारियों को ज्ञापन दिया जा रहा है एवम 04 अक्टूबर 2021 को पूरे उत्तर प्रदेश में जिला अध्यक्ष के नेतृत्व में  महानिदेशक स्कूल शिक्षा उत्तरप्रदेश के नाम संबोधित ज्ञापन जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों के माध्यम से दिया जाएगा।अगर मांगपत्र की मांगे स्वीकार न की गयीं तो प्रान्तीय संगठन अग्रिम आन्दोलन की घोषणा करेगा जिसका सम्पूर्ण उत्तरदायित्व शासन प्रशासन का होगा।                       इस अवसर पर जूनियर  हाईस्कूल शिक्षक संघ के प्रभारी मन्त्री प्रेम कुमार, उपाध्यक्ष माधवी अग्निहोत्री,  अंजू मिश्रा, होरीलाल,अब्दुल मुजीव खान,संयुक्त मन्त्री महाबीर प्रसाद मिश्र, मो. रफी खां, प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष प्रभाकर बाजपई,मन्त्री इमरान खां,व्योमेश अग्निहोत्री,मो.शोएव, विकास नायक,सुमन सिंह, उदयराज, बटेश्वर दयाल, निमिषा गुप्ता, उदय गुप्ता, रुहेला खांन ,नीरज बाजपेई, मो. आसिफ, अनीस अहमद, अनूप शर्मा,शकील अहमद, मौजी लाल, तुसार बाथम, नितिन बाजपेई, विवेक शुक्ला, मो. हाशिम, कुलदीप कुमार,संदीप विमल,गौरव मिश्रा, देवेश कुमार सिंह,आदि उपस्थित रहे।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner