Breaking News

ब्रेकिंग न्यूज़

इटावा ,उत्सव के रूप में मनाया जाए मातृ वंदना सप्ताह : सीएमओ.

post

इटावा ,उत्सव के रूप में मनाया जाए  मातृ वंदना सप्ताह :  सीएमओ

 पहली बार गर्भवती होने वाली महिलाओं के  रजिस्ट्रेशन पर रहेगा जोर

जनपद में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत अब तक  32,142 महिलाओं का पंजीकरण


इटावा, 2 सितम्बर 2021 |

पहली बार गर्भवती/धात्री महिलाओं के बेहतर स्वास्थ्य देखभाल और पोषण के लिए चलायी जा रही प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना को गति प्रदान करने के लिए चलाये जा रहे मातृ वंदना सप्ताह को उत्सव के रूप में मनाने के निर्देश जिला अस्पताल सहित  सभी सीएचसी को मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ भगवान दास ने दिए हैं | पहली सितम्बर को शुरू हुआ यह सप्ताह सात सितम्बर तक चलेगा |


 सीएमओ ने बताया कि  इस सप्ताह को एक उत्सव के रूप में मनाया जाए, जिसके तहत सप्ताह के हर दिन अलग-अलग गतिविधियाँ आयोजित की जाएँ  ।  इस सप्ताह के दौरान गर्भवती को कोविड टीकाकरण के प्रति विशेष तौर पर जागरूक  किया जाए  |


सीएमओ ने सभी ब्लॉक के सीएचसी के प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों  को निर्देश देते हुए कहा है कि सप्ताह के दौरान सभी पात्र गर्भवती व धात्री महिलाओं का अधिक से अधिक रजिस्ट्रेशन कर इस योजना का लाभ पहुँचाने पर जोर दिया जाए । जनसामान्य तक ज्यादा से ज्यादा योजना का प्रचार-प्रसार हो और स्वास्थ्य, पोषण एवं स्वच्छता के प्रति संवेदनशीलता को बढ़ावा दिया जाए । इसके अलावा कोविड टीकाकरण के प्रति गर्भवती को विशेष तौर पर जागरूक किया जाए । सप्ताह के दौरान गर्भवती के पोषण का खास ख्याल रखा जाए । गर्भवती को यह भी बताया जाए कि संस्थागत प्रसव में ही माँ-बच्चे की सुरक्षा निहित है व शिशु टीकाकरण बच्चे के बेहतर स्वास्थ्य के लिए जरूरी है ।


अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ सुशील कुमार ने कहा कि केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना को वर्ष 2017 में शुरू किया था |उन्होंने बताया कि जिले में अब तक योजना के तहत  32142 महिलाओं का पंजीकरण कराया जा चुका है और उन्हें  योजना का लाभ मिल चुका है। इस योजना के तहत सरकार गर्भवती  के खाते में तीन किश्तों में 5000  रुपये उनके  और उनके नवजात  के विकास को ध्यान में रखकर देती  है।


डॉ सुशील ने बताया कि पहली बार गर्भवती होने पर योजना के तहत पंजीकरण के लिए गर्भवती और उसके पति का कोई पहचान पत्र या आधार कार्ड, मातृ-शिशु सुरक्षा कार्ड, बैंक पासबुक की फोटो कापी जरूरी है । बैंक अकाउंट ज्वाइंट नहीं होना चाहिए । पंजीकरण के साथ ही गर्भवती को प्रथम किश्त के रूप में 1000 रुपये दिए जाते हैं । प्रसव पूर्व कम से कम एक जांच होने और गर्भावस्था के छह माह बाद दूसरी किश्त के रूप में 2000 रुपये और बच्चे के जन्म का पंजीकरण होने और बच्चे के प्रथम चक्र का टीकाकरण पूरा होने पर धात्री महिला को तीसरी किश्त के रूप में 2000 रुपये दिए जाते हैं। यह सभी भुगतान गर्भवती के बैंक खाते में ही किये जाते हैं ।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner