Breaking News

ब�रेकिंग न�यूज़

सिधौली, मीडिया कर्मी के बाग से काटे पेड़ विरोध करने पर अपराधिक धाराओं में नामित व्यक्तियों सहित महिलाओं ने की गाली गलौज .

post

सिधौली, मीडिया कर्मी के बाग से काटे पेड़ विरोध करने पर अपराधिक धाराओं में नामित व्यक्तियों सहित महिलाओं ने की गाली गलौज 


सिधौली सीतापुर जनपद के कोतवाली सिधौली क्षेत्र के मास्टर बाग छाजन गांव निवासी पत्रकार अमित मिश्रा से योजनाबद्ध तरीके से विवाद करने का मामला प्रकाश में आया है 

बताते चलें सिधौली के कमलापुर मास्टर बाग चौकी के छाजन गांव निवासी अमित मिश्रा ने स्थानीय कोतवाली में तहरीर देते हुए कई धाराओं  में नामित व्यक्तियों के द्वारा योजनाबद्ध तरीके से विवाद करने को लेकर कोतवाली पुलिस से लिखित तहरीर देते हुए मदद की गुहार लगाई है 


= क्या है पूरा मामला=


पीड़ित के बताए अनुसार उसके घर के सामने तीन बीघा खेत जिसमें चारो तरफ पेड़ लगे है देवेंद्र ने चोरी की नीयत से बिना पूछे पेड़ो की डाले काट डाली जब प्रार्थी ने पूछना चाहा तो देवेंद्र और इनकी पुत्रियां गाली गलौज पर आमादा हो गई

प्रार्थी के उपर पूर्व में विपक्षी देवेन्द्र मिश्रा पुत्र पुत्तू लाल निवासी छाजन एवम इनकी पुत्रियां  आरती मिश्रा , अनुराधा द्वारा पूर्व में एस आई बालक राम  की मिली भगत से प्रार्थी के ऊपर फर्जी मुकदमा दर्ज करा दिया गया था आगे  पिता का  जीवन संघर्षों से भरा  रहा कई वर्षों पूर्व प्रार्थी के पिता के ऊपर जानलेवा हमला   किया गया जिसका मुकदमा  थाना रामपुर कला सीतापुर के अन्तर्गत  धारा 307  323 504 506 आई पी सी  के अन्तर्गत  देवेंद्र के ऊपर  दर्ज हुआ और तत्पश्चात अगला प्रकरण दिनांक 30- 12- 72  बटवारे को लेकर  विपक्षियों द्वारा किया गया जिसमें उपनिदेशक चकबंदी उत्तर प्रदेश पीएम अग्रवाल के नेतृत्व में आदेश हुआ कि भारत राजकुमार आदि पुत्तू लाल  एक बटा दो के हिस्सेदार हैं इसके पूर्व  चकबंदी अधिकारी के न्यायलय में पुतू लाल ने भारत आदि  से सुलहनामा कर लिया उसके बाद यशो सी के न्यायालय में  रिवीजन दाखिल किया की चकबंदी सीओ ने यह    सुलह जबरदस्ती लिखा लिया जिसपर  रिवीजन न्यायालय द्वारा खारिज कर दिया गया पुनः अग्रिम कोर्ट में (डीडीसी) के वहा दाखिल किया जिस पर  दोनों पक्षों ने अपने अपने अधिवक्ताओं से बहस कराई जिसमें हमारे अधिवक्ता ने पुत्तू लाल का हाथ पकड़ कर कहा कि ये जमीन भारत आदि को दे दो  तब इन्होंने कहा ये जमीन क्यों दे दे ये जमीन हमारी है इसी पर प्रार्थी के अधिवक्ता ने बहस कर कहा  की पुत्तू लाल ने कहा सीओ चकबंदी ने सुलह जबरदस्ती  लिखवा लिया था  तो अब क्यों नहीं इसी पर  वरिष्ठ न्यायालय ने फैसला भारत आदि के पक्ष में कर दिया पूरी उम्र विपक्षियों द्वारा पिता और प्रार्थी के परिवार के ऊपर खुन्नस के कारण प्रार्थी की ताई  विधवा महिला होने के कारण उनको सरकार द्वारा 5 बीघा खेत आवंटन में  मिला जिस पर विपक्षियों द्वारा 198 - 4 के अन्तर्गत एस के अग्रवाल अतरिक्त  जिलाधकारी सीतापुर के यहां मुकदमा दर्ज कराया फल स्वरूप 31/12/78 -79 को पट्टा शान्ती देवी का निरस्त कर दिया तत्पश्चात प्रार्थी के द्वारा गया अंडर लिमिट के अंतर्गत अतिरिक्त उप निदेशक लखनऊ मंडल के कोर्ट में प्रार्थी की ताई द्वारा अपने अधिवक्ता के सहयोग से रिवीजन दाखिल किया कुछ समय बाद हमारे अधिवक्ता बी के सिंह के बहस करने के बाद मुकदमा प्रार्थी की ताई के पक्ष में आदेश होने के 30 दिन के अंतर्गत देवेंद्र ने  आपत्ती दाखिल कर दि जिसने शान्ती देवी के आदेश को पूर्णता स्वीकृति दे दि

 इसी सब की खुन्नस मानते हुए किसी ना किसी बहाने से जान बूझ कर लड़ाई झगड़ा किया करते है 

 प्रार्थी को कोई ना कोई बहाने से फसाने की कोशिश किया करते है  जबकि विपक्षी की माता द्वारा अपने लड़के की 302 की फर्जी जमानत  कराने के अपराध में धारा 420 के अन्तर्गत कई महीना सीतापुर जेल काट चुकी और और दामाद अनुपम पांडेय उर्फ अन्नू पांडेय संगीन धाराओं में गोडा  जेल एवम गाव में रह कर सराब का व्यवसाय भी करता रहा आए दिन किसी न किसी से लड़ाई झगडा किया करता है एवम असलहे दिखा कर लोगो को डराया धमकाया करता है

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner