Breaking News

ब�रेकिंग न�यूज़

कानपुर ,एलाइजा विधि से जाँच में पाज़िटिव आने पर ही डेंगू की पुष्टि – सी.एम.ओ.

post

कानपुर ,एलाइजा विधि से जाँच में पाज़िटिव आने पर ही डेंगू की पुष्टि – सी.एम.ओ.

डेंगू, मलेरिया की घोषणा एवं सूचना प्राइवेट व्यक्ति, संस्था, चिकित्सालय या पैथोलॉजी सेंटर द्वारा करना पूर्णत: अवैधानिक

कानपुर, 17 अगस्त 2021 । बरसात के मौसम में वेक्टर जनित रोग जैसे मलेरिया, डेंगू आदि के रोगी मिलने की संभावना बनी रहती है । इन रोगों की जाँच की कई विधियाँ होती है जिनमे डेंगू की पुष्टि के लिए एलाइजा विधि को ही निर्णायक माना जाता है । डेंगू की जाँच और वेक्टर जनित रोगों की सूचना या घोषणा निजी संस्थाओं द्वारा करने पर सी.एम.ओ. ने कड़े निर्देश दिए हैं ।

सी.एम.ओ. डॉ. नैपाल सिंह ने कहा कि मलेरिया, डेंगू व अन्य वेक्टर जनित रोगों के उपचार एवं जाँच सरकारी के साथ ही निजी चिकित्सालयों व पैथोलॉजी सेंटरों में भी करायी जाती है । इसमें कुछ चिकित्सालय मरीजों की जाँच रैपिड कार्ड से कराकर एवं लक्षणों को आधार बना कर, कम प्लेटलेट्स मिलने पर मरीज़ को डेंगू का मरीज़ बताकर उपचार करते हैं ,जो कि पूरी तरह से गलत है । एलाइजा विधि से जाँच में डेंगू की पुष्टि होने पर ही मरीज़ को डेंगू से पीड़ित माना जा सकता है । डेंगू से ग्रसित होने पर मरीज़ के खून में प्लेटलेट्स तेज़ी से गिरना डेंगू का एक लक्षण है पर केवल इससे ही डेंगू रोग से ग्रसित होने की पुष्टि नही होती है ।

डॉ. नैपाल सिंह ने कहा कि बुखार के रोगियों का लक्षणों के आधार पर मलेरिया व डेंगू की जाँच करना आवश्यक है । यदि जांच में डेंगू, मलेरिया या अन्य वेक्टर जनित रोगी की पुष्टि होती है तो इसकी सूचना पूर्ण विवरण के साथ तत्काल सी.एम.ओ. कार्यालय में उपलब्ध करायी जाये । उन्होंने कहा कि डेंगू, मलेरिया या किसी भी वेक्टर जनित रोगों के प्रसार की घोषणा एवं सूचना किसी प्राइवेट व्यक्ति, संस्था, चिकित्सालय या पैथोलॉजी सेंटर के द्वारा किया जाना पूर्णत: अवैधानिक है । ऐसी सूचना या घोषणा से लोगों में अनावश्यक भय पैदा हो जाता है । यदि कोई व्यक्ति, संस्था, चिकित्सालय या पैथोलॉजी सेंटर ऐसा करते हैं तो उनके विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जाएगी ।

जिला मलेरिया अधिकारी ए.के.सिंह ने बताया कि सभी निजी चिकित्सालय, नर्सिंग होम व पैथोलॉजी सेंटरों को निर्देश के साथ पत्र जारी किया गया है । पत्र में डेंगू, मलेरिया या किसी भी वेक्टर जनित रोगों की जाँच, उपचार में सावधानी बरतने और मरीज़ में रोग की पुष्टि होने पर उसकी सूचना सी.एम.ओ. कार्यालय को उपलब्ध करने के निर्देश दिए गये हैं ।

Latest Comments

Leave a Comment

Sidebar Banner
Sidebar Banner
Sidebar Banner